वो जाइज़ बातें जो एहराम में हराम हैं।

वो जाइज़ बातें जो एहराम में हराम हैं।

1
2673

بِسْمِ اللّٰہِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِیۡمِ

  • बीवी से हमबिस्तरी करना, चूमना, गोद में लेना, गले लगाना, उसकी शर्मगाह पर नज़र करना, शहवत के साथ छूना, औरतों के सामने हमबिस्तरी या चूमने का ज़िक्र करना या बेहूदा बकवास करना।
  • गुनाह हमेशा हराम थे अब और सख़्त हराम हो गये।
  • किसी से दुनियावी लड़ाई झगड़ा करना।
  • जंगल का शिकार ख़ुद करना, शिकार की तरफ़ शिकार करने का इशारा करना या किसी तरह बताना, बन्दूक या बारूद या उसके ज़बह करने का औज़ार देना, शिकार के अन्डे तोड़ना, पर उखाड़ना, पाँव या बाज़ू तोड़ना, शिकार का दूध दुहना, शिकार का गोश्त या अन्डे पकाना या भूनना, बेचना, ख़रीदना या खाना।
  • अपने या दूसरे का नाख़ून कतरना या दूसरे से अपने कतरवाना, सिर से पाँव तक कहीं से कोई बाल किसी तरह अलग करना।
  • मर्द को सिर ढकना या उस पर कुछ रखना यहाँ तक की अमामा बाँधना भी मना है और एहराम के दौरान सब नमाज़ें खुले सिर से पढ़ें।
  • बुर्क़ा, दस्ताने या मोज़े वग़ैरा पहनना जो पैर के ऊपरी हिस्से को छुपाये और मर्दों को सिला हुआ कपड़ा पहनना।
  • मर्द एहराम के दौरान ऐसा जूता या स्लीपर न पहने जिससे पैर के ऊपर की तरफ़ की उभरी हुई हड्डी ढक जाये। अगर ग़लती से एक दिन या एक रात पहन लिया तो दम वाजिब हो जाएगा।
  • मर्द और औरत को एहराम की हालत में अपने चेहरे को इस तरह ढकना मना है कि कपड़ा चेहरे को लगे।
  • आमतौर पर यह देखने में आया है कि लोग एहराम के दौरान धूल या बू वग़ैरा से बचने के लिये मुँह पर मास्क लगा लेते हैं जिससे मुँह और नाक ढक जाते हैं यह भी जाइज़ नहीं है।
  • एहराम के दौरान मर्द को सिर और चेहरे का और औरत को सिर्फ़ चेहरे का कपड़े से पोंछना जाइज़ नही।
  • ख़ुशबू बाल, बदन या कपड़ों में लगाना या किसी ख़ुशबू वाले रंग से रंगे कपड़े पहनना जो अभी ख़ुशबू दे रहे हों।
  • आजकल आमतौर पर साबुन या शैम्पू वग़ैरा जो मिलते हैं वह सब ख़ुशबूदार होते हैं लिहाज़ा उन्हें हरगिज़-हरगिज़ इस्तेमाल न करें लेकिन अगर कोई साबुन बिना ख़शबू वाला ख़ास तौर पर बना हुआ हो तो इस्तेमाल कर सकते हैं। ख़ुशबूदार साबुन के एक बार इस्तेमाल से सदक़ा और बार-बार इस्तेमाल करने से दम वाजिब हो जाता है।
  • ख़ालिस ख़ुशबू मुश्क, अम्बर, ज़ाफ़रान, जावित्री, लौंग, इलायची, दारचीनी, सोंठ वग़ैरा खाना।
  • ऐसी ख़ुशबू का आँचल में बाँधना जिसमें महक हो जैसे मुश्क, अम्बर, ज़ाफ़रान।
  • सिर या दाढ़ी को किसी ख़ुशबूदार ऐसी चीज़ से धोना जिससे जुएँ मर जायें।
  • मेहंदी का या और कोई ख़िज़ाब लगाना या गोंद वग़ैरा से बाल जमाना ।
  • ज़ैतून या तिल का तेल चाहे उनमें ख़ुशबू न हो बालों या बदन में लगाना।
  • किसी के बाल काटना, जूँ मारना, जूँ फेंकना, किसी को जूँ मारने का इशारा करना,  कपड़ा उसके मारने को धोना या धूप में डालना यानि जूँ के मार डालने पर किसी तरह की मदद करना या कराना।

1 COMMENT

Comments are closed.